हिंदी लेख 

 

आसान पहल से दूर हो सकता है मरुस्थलीकरण का संकट

मरुस्थलीकरण रोकने के लिए वानिकी के माध्यम से खराब मिट्टी में सुधार, पानी के उपयोग की दक्षता को बढ़ाना, मिट्टी का कटाव रोकना और बेहतर कृषि प्रणालियों को अपनाना होगा।

लू से होने वाले नुकसान से बचने के लिए हीट कोड जरूरी

सरकार हीटवेव को प्राकृतिक आपदा नहीं मानती, इस पर अब गंभीरता से विचार करने की जरूरत है

सांसों में घुलता जहर, क्या चीन जैसी नीति बना सकते हैं हम?

लगभग हर भारतीय ऐसी हवा में सांस ले रहा है जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन के वायु गुणवत्ता मानदंडों के अनुसार, असुरक्षित माना गया है

ये दो शहर दुनिया को सिखा रहे बूंदों की संस्कृति

बारिश का पानी बचाकर और सीवेज के पानी को दोबारा उपयोग लायक बनाकर हम भारतीय शहरों की घरेलू पानी की जरूरतों को आसानी से पूरा कर सकते हैं।

जलवायु परिवर्तन नहीं, जलवायु प्रलय कहिए

जलवायु आपातकाल वास्तविक है हमें इसके प्रलय से बचने के लिए वास्तविक कार्रवाई की ओर कदम बढ़ाना होगा

जलवायु परिवर्तन के लिए निजी क्षेत्र को जवाबदेह बनाना जरूरी

जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए मौलिक रणनीतियां अपनाने का वक्त आ गया है

चुनाव 2019: पर्यावरण के मुद्दों पर राजनीतिक उदासीनता के लिए दोषी कौन

पर्यावरण को चुनावी मुद्दे बनाने के सवाल पर सिविल सोसायटी लोगों को जागरूक नहीं कर पाई

कूड़े से बिजली बनाने की योजना पर उठते सवाल

कूड़े से बिजली बनाने वाले संयंत्रों को कचरे के निपटान का चमत्कारी तरीका माना जा रहा है। लेकिन यह विकल्प कितना व्यवहारिक है?

कानून और पर्यावरण की उपेक्षा

रैट-होल कोयला खदानों से कोयले के सुरक्षित खनन जैसी कोई चीज नहीं है और इसलिए इस पुराने तरीके को तत्काल बंद करना होगा

पर्यावरण के लिए कैसा हो 2019 का एजेंडा

2019 के लिए एजेंडा स्पष्ट है कि प्रमुख कार्यक्रमों को लागू करने तथा हमारे अंतरराष्ट्रीय दायित्वों को पूरा करने के लिए हमें संस्थागत और विनियामक रूपरेखा बनानी होगी

जलवायु कूटनीति का सार

जलवायु परिवर्तन वार्ता का लक्ष्य “न कोई हारे, न कोई जीते” होना चाहिए लेकिन ऐसा हो नहीं रहा है

पेइचिंग से सबक

पेइचिंग ने समयबद्ध लक्ष्य निर्धारित करके तथा व्यापक क्षेत्रीय कार्य योजना लागू करके केवल चार वर्षों में हवा की गुणवत्ता में सुधार कर लिया है

धरती बचाने का प्लान ‘बी’

क्या फौजी ताकत बढ़ाने पर खर्च होने वाली धनराशि धरती बचाने पर नहीं लगाई जा सकती?

सिर पर खतरा

केरल में आई विनाशकारी बाढ़ जैसी घटनाओं को रोकने के लिए विकास से संबंधित नीतियों में जलवायु परिवर्तन को केंद्र में रखने की जरूरत है

हक पर हमला

खनन से प्रभावित लोगों के जीवन में सुधार के लिए जिला खनिज फाउंडेशन की स्थापना की गई थी। लेकिन दुर्भाग्यवश यह अपने मकसद से भटक गया है

कोयले का अंत 2050 तक!

तकनीक का विकास दुनियाभर को नवीकरणीय ऊर्जा की दिशा में आगे बढ़ा रहा है और इसने कोयले के भविष्य को चुनौती दे दी है। भारत में अंतिम कोयला बिजली संयंत्र 2050 तक बंद हो सकता है। चंद्र भूषण का विश्लेषण

अस्वच्छ सर्वेक्षण

स्वच्छ सर्वेक्षण में उन शहरों को नजरअंदाज किया गया जहां कूड़ा प्रबंधन के टिकाऊ व्यवहार को अपनाया जा रहा है

एक बार फिर, अमेरिका वैश्विक जलवायु समझौते से दूर

अमेरिका ने क्योटो प्रोटोकॉल की तरह पेरिस समझौते साथ भी सलूक किया

©2019 by Chandra Bhushan. Proudly created with Wix.com